Friday, April 19, 2019

इन की मौत के कारण हुआ है tiktok बेन, आईये जानते है

दोस्तों जैसा की आप सभी को पता चल गया है की भारत में अब tiktok डाउनलोड नही किया जा सकता क्योंकी गूगल प्ले स्टोर और एप्प स्टोर से इसे बेन कर दिया गया है, हालाँकि थर्ड पार्टी एप्स का नही कहा जा सकता ।आपको बता दें की tiktok का ये कहना है की उन्हें भारतीय न्याय प्रणाली पर पूरा विश्वास है और साथ ही साथ tiktok पेरेंट कंपनी का कहना है की इस से भारत में फ्री स्पीच का भारी नुकसान होगा। आपको बता दें की tiktok के भारत में लगभग 12 करोड़ से भी ज्यादा मंथली एक्टिव यूजरस है, भारत में इस के लाखो करोड़ो यूजरस हो गये है और ये काफी तेज़ी से फैलने लगा है ।
मद्रास हाई कोर्ट ने इसे इस लिए बन करने को कहा है, क्यों की कोर्ट को लगता है की ये एप्प पोर्नोग्राफी और यौन हिंसा को बढ़ावा दे रहा है । कोर्ट के इस फैसले के बाद भारत में ये एप्प लगभग बन कर दिया गया है। मतलब ये की नये यूजरस इसे डाउनलोड नही कर सकते एप्पल एप्प स्टोर और गूगल प्ले स्टोर से इसे हटा दिया गया है।
ये एक चीनी एप्प है और इस की पेरेंट कम्पनी का नाम है बाइट डांस है बेन करने के बाद के बाद कंपनी का कहना है की इस से भारत में फ्री स्पीच का नुकसान होगा, बाइट डांस चीन की स्टार्टअप कंपनी है और ये दुनिया की सबसे ज्यादा वैल्यू वाले स्टार्टअप में से एक है । आपको पता होगा की tiktok भारत के ग्रामीण इलाको में भी काफी ज्यादा पोपुलर है, ख़ास बात ये है की जिन यूजर स के पास ये एप्प है वो इसे यूज़ कर रहे है इतना ही नही भले ही ये एप्प स्टोर से डाउनलोड नही किया जा सके लेकिन इसे लोग फाइल ट्रान्सफर करने वाली एप्प से एक से दुसरे के साथ शेयर कर रहे है , इतना ही नही थर्ड पार्टी की वेबसाइटस से इसे अब भी डाउनलोड कर रहे है।

क्यों बेन हुआ tiktok
tiktok ब्लोक होने की कईं वजहे है रिपोर्ट्स के मुताबिक tiktok विडियो बनाने के कर्म में एक कॉलेज स्टूडेंट की मौत हो गयी थी। क्योंकी बाइक पे दोस्तों के साथ tiktok पे कुछ विडियो बनाया जा रहा था और उन का एक्सीडेंट हो गया,
दूसरी रिपोर्ट के मुताबिक चेन्नई के एक 24 साल के युवक ने कथित तौर पर tiktok यूजरस के हरासमेंट के बाद आत्महत्या कर ली क्यों की उस ने माहिलाओं के कपड़े पहन कर विडियो बनाये थे । इसके बाद मद्रास हाई कोर्ट में tiktok बेन के लिए  एप्लीकेशन दाखिल की गयी फिर मद्रास हाई कोर्ट ने भारत से इस एप्प को बेन करने को कहा। गूगल स्टोर और एप्प स्टोर ने हाई कोर्ट के आदेश का पालन करते हुए इस चीनी एप्प tiktok को बेन कर दिया।
हालाँकि tiktok ने अपने बचाव में 60 लाख वीडियोस हटाने का दावा किया जो इस एप्प के कम्युनिटी गाइड लाइन का उलंघन कर रहे थे, इस के साथ ही कंपनी ने कमेंट्स में फ़िल्टर भी लगाने शुरू कर दिए ताकि अनचाहे कमेंट्स न आ सके। बात सुप्रीम कोर्ट तक गयी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर से बन हटाने से मना कर दिया। दलील ये दी गयी है की अभी ये परमानेंट नही है क्यों की मामला हाई कोर्ट में चल रहा है, मद्रास हाई के आदेश के बयाँ के बाद tiktok का ये बयाँ आया है सामने।

'हम मद्रास हाई कोर्ट द्वारा अरविन्द दारत को कोर्ट में  इंडीपेंडेंट कांसियल अपोइन्ट  करने के फैसले का सम्मान करते है हमें भारतीय न्यायिक प्रणाली में विश्वास है, और हम इस बात को लेकर आशावादी है जिस से भारत में लगातर 120 मिलियन से ज्यादा मंथली एक्टिव यूजर इस एप्प को यूज़ करते रहेंगे'

भारत tiktok के लिए बहुत बड़ा मार्किट है, हो सकता है ये एप्प अपनी वैल्यू यहाँ पे बनाये रखने के लिए अपनी पालिसी में भी बदलाव करेगी, रिपोर्ट्स के मुताबिक कुछ ही समय पहले कमेंट सेक्शन में तो फ़िल्टर लगाया ही है अब और भी बदलाव करने वाली है, tiktok के एक प्रवक्ता ने बताया की कंपनी ने यूजरस के अकाउंट सेफ्टी के लिए कई कदम उठाये है। हालाँकि की tiktok के द्वारा उठाये गये कदम से शायद कोर्ट कोई कोई भी असर न हुआ क्यों की कोर्ट ने से इस लिए ब्लाक किया क्योंकि ये पोर्न और यौन हिंसा को बढ़ावा देता है। लेकिन tiktok ने इस बात पर कोई भी आधिकारिक स्टेटमेंट जारी नही किया है और न हि ये कहा है की कोर्ट के इस फैसले उपर क्या करना है।
कुल मिलाकर ये है की नजदीकी भविष्य में इस पर बन जारी रह सकता है, अब कुछ सवाल आप लोगो से है दोस्तों जरूर अपना जवाब शेयर कीजियेगा धन्यवाद ।
- क्या आपको लगता है की tiktok को बन करने से समाज में फ़ैल रही गंध खत्म हो जाएगी
- क्या आपको लगता है tiktok खोल देने से समाज में गंध फैलती रहेगी
- क्या कह जाए इस पर, गंध किसी एप्प में है या फिर हमारी मानसिकताओं में , या हमारे कल्चर में, या फिर हमारी परम्पराओं में किस में है ये कहना बड़ा मुश्किल हो गया है कमेंट सेक्शन आपके लिए खुला है हमें जरूर कमेंट में सुझाव दें।
Share This
Latest
Next Post

0 comments: